Free Fire Attachment’s Use And Real Life

परिचय
फ्री फायर की लगभग सभी Guns में कोई ना कोई अटैचमेंट जरूर लगता है| और सभी अटैचमेंट का कोई ना कोई उपयोग भी हैं| अटैचमेंट का इस्तेमाल करके अपने गेमप्ले को बेहतर बना सकते हैं| इस पोस्ट में हम अटैचमेंट्स के उपयोग और उनके रियल लाइफ के बारे में जानेंगे|

Free fire gun attachments

Silencer
साइलेंसर का इस्तेमाल बहुत ही आसान सा है| अगर हम अपने गन में साइलेंसर लगा लेते हैं तो गोली चलने की वजह से जो जो आवाज निकलती है वह काफी हद तक कम हो जाती है| इसी वजह से ही एनिमी को पता नहीं चलता कि फायर किस साइड से हुआ है| साफ शब्दों में कहूं तो एनिमी जान ही नहीं पाता की गोली कहां से चली है| और आपकी लोकेशन वह जान नहीं पाता|



रियल लाइफ
साइलेंसर रियल लाइफ में भी होते हैं| और इसके इस्तेमाल को रियल लाइफ से ही लिया गया है| साइलेंसर आमतौर पर स्टेनलेस स्टील या फिर टाइटेनियम से बना होता है| सलेनसर के आविष्कारक Hiram Percy Maxim है|
इन्होंने ही साइलेंसर का आविष्कार किया और व्यापारिक तौर पर इसका व्यापार भी किया| इसी वजह से इस साइलेंसर को मैक्सिम साइलेंसर के नाम से भी जाना जाता है|
मैक्सिम साइलेंसर 1902 में व्यापारिक तौर पर| सफल हुआ और 30 मार्च 1909 को इसे पेटेंट करवा लिया गया|

Muzzle
मजल का उपयोग हम गन में रेंज बढ़ाने के लिए करते हैं| यानी कि मानो आपके पास mid-range की गन है और एनीमी mid-range से दूर भी हो तो फायर करने पर ज्यादा डैमेज होगा| जबकि अगर आप अपने मजल नहीं लगाया है और और एनिमी mid-range से बाहर होने पर डैमेज कम होगा|
लेकिन दिक्कत की बात तब आती है जब हमें मजल और साइलेंसर में से किसी एक को चुनना होता है| क्योंकि दोनों अटैचमेंट्स को लगाने का एक ही प्लॉट होता है|
इसके लिए आपको डिसाइड करना होगा कि आपको किस तरह से खेलना पसंद है| अगर आप अपनी पोजीशन रिवील नहीं करनी और लंबे समय तक मैच में बने रहना चाहते हैं तो आपके लिए साइलेंसर एक बेहतर ऑप्शन साबित हो सकता है| और जब कि अगर आप ज्यादा से ज्यादा एनिमी को डैमेज देना चाहते हैं तो आपके लिए मजल बेहतर ऑप्शन साबित हो सकता है|

रियल लाइफ
मजल का उपयोग रियल लाइफ में भी किया जाता है| लेकिन इसका इस्तेमाल ज्यादातर रिकॉइल कंट्रोल के लिए होता है|

Foregrip
Foregrip का इस्तेमाल काफी आसान सा है ,यह बुलेट को बिखरने से रोकता है| क्योंकि जब रियल लाइफ में गन को चलाया जाता है तो बुलेट फायर होते समय तेज दबाव से बाहर आते हैं इसी वजह से पीछे की तरफ धक्का लगता है| और लगातार फायरिंग करने से बुलेट अपने लक्ष्य से इधर-उधर लगने लगती है| इसी को ही रिकॉइल कहते हैं| हम कह सकते हैं कि Foregrip recoil कंट्रोल करने में हेल्पफुल है|
और Foregrip की अच्छी बात यह है कि इसे खड़े होकर , बैठ कर या लेट कर कैसे भी यूज़ किया जा सकता है| सभी परिस्थितियों में इसका काम एक जैसा ही है|

रियल लाइफ
Foregrip असल जिंदगी में भी होता है| इसका इस्तेमाल ज्यादातर लॉन्ग बैरल फायर आर्म्स में किया जाता है| बैरल गन की वो ट्यूब होती है जहां से बुलेट फायर होने के बाद गुजरती है| Foregrip का यूज़ एक अच्छी पकड़ बनाने के लिए किया जाता है| ताकि गन ज्यादा ना हिले और रिकॉइल भी कम हो|
जिन गन को आगे से सपोर्ट देने के लिए पकड़ा जाता है उनमें Foregrip लगाते हैं ताकि पकड़ मजबूत बने और निशाना सही लगे|

Magazine
मैगजीन का उपयोग भी काफी आसान सा है| जो कि आप में से लगभग सभी को पता ही होगा| जैसे हम ग्रोजा का उदाहरण लेते हैं| बिना मैगजीन के 30 बुलेट का क्लिप होता है| लेवल 1 पर 36 , लेवल 2 पर 42और लेवल 3 पर मैगजीन में हमें 48 बुलेट मिलती है| इसी के साथ मैगजीन की रीलोड स्पीड भी बढ़ जाती है|
डबल मैगजीन की बात की जाए तो यहां हमें लवर 2 के मैगजीन जितनी बुलेट यानी कि 42 बुलेट मिलती है इसके साथ ही रीलोड स्पीड काफी तेज हो जाती है| लेकिन ऐसा तभी होता है जब सारी बुलेट खत्म हो जाती हैं| बीच में रीलोड करोगे तो आपको रीलोड स्पीड इतनी फास्ट देखने को नहीं मिलेगी|

Free Fire Gun Magazines

रियल लाइफ
Foregrip असल जिंदगी में भी होता है| इसका इस्तेमाल ज्यादातर लॉन्ग बैरल फायर आर्म्स में किया जाता है| बैरल गन की वो  ट्यूब होती है जहां से बुलेट फायर होने के बाद गुजरती है| Foregrip का यूज़ एक अच्छी पकड़ बनाने के लिए किया जाता है|   ताकि  गन ज्यादा ना  हिले और रिकॉइल भी कम हो|
जिन  गन को आगे से सपोर्ट देने के लिए पकड़ा जाता है उनमें Foregrip लगाते हैं ताकि पकड़ मजबूत बने और  निशाना सही लगे|

Bipod
Bipod का इस्तेमाल Foregrip की तरह ही Recoil कम करने के लिए किया जाता है| लेकिन Bipod का इस्तेमाल करना तभी उपयोगी साबित होता है जब बैठ कर या लेट कर फायरिंग की जाए| यानी हम खड़े होकर फायरिंग करते हैं तो इसका कोई फायदा नहीं होगा| जरा भी रिकॉइल कंट्रोल नहीं होगा|
हां ,लेकिन अगर हम परिस्थिति के अनुसार बैठ कर या लेट कर फायरिंग करते हैं| और Bipod लगाया जाए तो यह Foregrip से भी अच्छा recoil कंट्रोल करता है|
लेकिन उसका फायदा कम ही प्लेयर्स ले पाते हैं| क्योंकि प्लेयर्स ज्यादातर खड़े होकर ही फायरिंग करते हैं| क्योंकि ऐसे में मूवमेंट करना आसान हो जाता है| और मूवमेंट स्पीड जरूरी भी बहुत होती है चाहे खुद को एनिमी से बचाना हो या फिर एनिमी पर फायर करना हो|

रियल लाइफ
Bipod असल जिंदगी में भी होते हैं| इसका इस्तेमाल गन को स्थिर रखने के लिए किया जाता है| ताकि गन कम से कम हीले और रिकॉइल कम हो| इसका सबसे अच्छा उपयोग वहां किया जाता है जहां पर लेट कर फायरिंग की जानी हो| इसके अलावा असल जिंदगी में बड़े वाले Bipod भी होते हैं| जहां पर खड़े होकर फायरिंग की जाती है| लेकिन इस प्रकार के Bipod का इस्तेमाल कम ही किया जाता है|

Stock
Stock का उपयोग गन को स्थिर रखने के लिए किया जाता है| स्टॉक स्थिरता को बढ़ाता है| इस वजह से रिकॉइल कम होता है| और एक्यूरेसी बढ़ जाती है| यानी सीधे तौर पर समझे तो Stock लगाने से एक्यूरेसी बढ़ जाती हैं| लेकिन इसके अलावा एक और खास बात यह है कि Stock लगाने से फायरिंग करते समय मूवमेंट स्पीड भी बढ़ जाती है|

रियल लाइफ
Stock का इस्तेमाल असल जिंदगी में भी किया जाता है| और यह गन का पिछला हिस्सा होता है| जिससे कि शोल्डर स्टॉक , बट स्टॉक के नाम से जाना जाता है| स्टॉक शब्द का इस्तेमाल 1571 से किया जा रहा है| जो कि जर्मनिक वर्ड है| जिसका अर्थ पेड़ का तना होता है| क्योंकि ज्यादातर स्टॉक लकड़ी के ही बनाए जाते हैं|
यह गन को स्थिर रखता है जिससे कि रिकॉइल कम होता है|